Corona Cases In India: कोरोना की तीसरी लहर में बैंक कर्मचारियों को भी दी जाए बूस्टर डोज: AIBOC 1

Corona Cases In India: कोरोना की तीसरी लहर में बैंक कर्मचारियों को भी दी जाए बूस्टर डोज: AIBOC

Corona Booster Dose: पूरे देश में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच बैंक अधिकारियों के संगठन एआईबीओसी (AIBOC) ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) से अपील की है कि बूस्टर डोज देने के लिए बैंक कर्मचारियों को भी फ्रंटलाइन वर्कर माना जाए. देशभर में तेजी से फैल रही महामारी के बीच सभी कर्मचारियों की सुरक्षा का ध्यान रखा जाना चाहिए.

5 दिन खोले जाएं बैंक
अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ (AIBOC) ने वित्त मंत्री को लिखे पत्र में सुझाव दिया कि वायरस के संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए बैंकों को सप्ताह में पांच दिन खोला जाए.

50 फीसदी कर्मचारियों
इसके अलावा पत्र में यह आग्रह भी किया गया कि सभी शाखाओं या कार्यालयों में केवल 50 फीसदी कर्मचारियों की प्रत्यक्ष उपस्थित होनी चाहिए और बाकी कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति दी जाए.

बूस्टर डोज दी जाए

View More Corona Cases In India: कोरोना की तीसरी लहर में बैंक कर्मचारियों को भी दी जाए बूस्टर डोज: AIBOC
Economic Growth: आर्थिक गतिविधियों पर दिखेगा Omicron का असर, मार्च तिमाही में घट सकती है वृद्धि दर 2

Economic Growth: आर्थिक गतिविधियों पर दिखेगा Omicron का असर, मार्च तिमाही में घट सकती है वृद्धि दर

Omicron Coronavirus Covid 19: देशभर में ओमिक्रोन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, जिसकी वजह से सभी राज्यों ने अलग-अलग तरह से प्रतिबंध लगा दिए हैं. सभी राज्यों में लगाए गए प्रतिबंध का असर देश की आर्थिक गतिविधियों पर देखने को मिलेगा. एचडीएफसी बैंक के अर्थशास्त्रियों ने मंगलवार को कहा है कि ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों की वजह से आर्थिक गतिविधियों में दबाव देखने को मिलेगा. 

मार्च तिमाही में दिखेगा असर
आपको बता दें आर्थिक गतिविधियों पर कोरोना का असर पड़ने की वजह से मार्च तिमाही में विकास दर 0.30 फीसदी तक प्रभावित हो सकती है. निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक के अर्थशास्त्रियों ने कहा कि पहले उनका अनुमान था कि चौथी तिमाही में वृद्धि दर 6.1 फीसदी होगी, लेकिन ओमीक्रोन के प्रकोप के चलते ये 0.2-0.3 फीसदी तक प्रभावित हो सकती है. 

प्रतिबंधों का दिखेगा असर
उन्होंने कहा, ‘‘राज्यों द्वारा कोविड से संबंधित…

View More Economic Growth: आर्थिक गतिविधियों पर दिखेगा Omicron का असर, मार्च तिमाही में घट सकती है वृद्धि दर
Dhanteras: इस धनतेरस बाजार में बढ़ी रौनक, लोगों ने जमकर की सोने की खरीदारी, 75,000 करोड़ रुपये का बिका गोल्ड 3

Dhanteras: इस धनतेरस बाजार में बढ़ी रौनक, लोगों ने जमकर की सोने की खरीदारी, 75,000 करोड़ रुपये का बिका गोल्ड

Dhanteras 2021: बाजारों में दीपावली (Diwali 2021) से पहले धनतेरस की अच्छी शुरुआत हुई और खोई चमक वापस पाते हुए सोने के आभूषणों और सिक्कों की बिक्री कोविड-पूर्व के स्तर पर पहुंचने की ओर है. इस बार दिवाली पर महामारी की चिंता काफी कम होती हुई दिखाई दे रही है. इसके अलावा गोल्ड की मांग में तेजी के साथ आभूषणों की दुकानें भी सजी हुई हैं और ग्राहकों की भीड़ देखने को मिली है. 

ऑनलाइन बिक्री में भी हुआ इजाफा
दुकानों में और ऑनलाइन बिक्री में भी इजाफा हुआ है. इस बार धनतेरस पर विशेष रूप से हल्के वाले सोने के उत्पादों की बिक्री में तेजी आयी है. हिंदू मान्यता के अनुसार धनतेरस को कीमती धातुओं से लेकर बर्तनों तक की खरीदारी के लिए सबसे शुभ दिन माना जाता है. इसी वजह से आज बाजारों में काफी रौनक देखने को मिल रही है. 

क्या है…

View More Dhanteras: इस धनतेरस बाजार में बढ़ी रौनक, लोगों ने जमकर की सोने की खरीदारी, 75,000 करोड़ रुपये का बिका गोल्ड
अर्थव्यवस्था को लेकर मोंटेक सिंह अहलूवालिया का बड़ा बयान- इस साल के अंत तक संगठित क्षेत्र कोविड पूर्व जैसी हो जाएगी 4

अर्थव्यवस्था को लेकर मोंटेक सिंह अहलूवालिया का बड़ा बयान- इस साल के अंत तक संगठित क्षेत्र कोविड पूर्व जैसी हो जाएगी

नई दिल्लीः जाने-माने अर्थशास्त्री और योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष रहे मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने अर्थव्यवस्था को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने गुरुवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था अब निचले स्तर से धीरे-धीरे ऊपर आ रही है. योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष ने कहा कि संगठित क्षेत्र इस साल के अंत तक महामारी-पूर्व स्थिति में आ सकता है. एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अहलूवालिया ने कहा कि वह पुरानी संपत्तियों को बाजार पर चढ़ाने (राष्ट्रीय मौद्रिकरण पाइपलाइन) की योजना के पक्ष में हैं. उन्होंने कहा कि इससे बिजली, सड़क और रेलवे समेत विभिन्न क्षेत्रों में बुनियादी ढांचा संपत्ति का बेहतर उपयोग होगा और सही मूल्य सामने आएगा.

अर्थव्यवस्था अब उबरने लगी है

अहलूवालिया ने कहा, ”एक अच्छी बात यह है कि अर्थव्यवस्था अब उबरने लगी है और धीरे-धीरे आगे बढ़ रही है. संगठित क्षेत्र में इस साल के अंत तक महामारी के पहले…

View More अर्थव्यवस्था को लेकर मोंटेक सिंह अहलूवालिया का बड़ा बयान- इस साल के अंत तक संगठित क्षेत्र कोविड पूर्व जैसी हो जाएगी
कर्मचारी की मृत्यु के बाद उनके आश्रितों को मिलता है लाभ, जानें EPFO के फायदे 5

कर्मचारी की मृत्यु के बाद उनके आश्रितों को मिलता है लाभ, जानें EPFO के फायदे

कई लोगों ने कोरोना के दौरान अपने प्रियजनों को खो दिया है. ऐसे में जिन परिवारों ने अपने कमाऊ सदस्य खो दिया है उनके लिए खासा नुकसान हुआ है.  नुकसान से निपटने के लिए आश्रितों की ओर से हस संभव प्रयास किया जा रहा है. कई लोग जानकारी के अभाव में सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं उठा पाते हैं. ऐसे में लोगों के लिए यह जानकारी जरूरी है कि वह इन परिस्थियों में क्या करें कि उन्हें लाभ मिले और जिंदगी का गुजारा अच्छे से हो.

कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ): ईपीएफ में नॉमिनी के तौर पर जुड़े लोग खाते की राशि को लेकर दावा कर सकते हैं. ऐसे में कई बार देखा गया है कि कर्माचारी जानकारी के अभाव में नॉमिनी को नहीं जोड़ पाते हैं. इस स्थिति में इस राशि के लिए कानूनी उत्तराधिकारी अपना दावा ठोक सकता है. 

बता दें कि पहले, नॉमिनी…

View More कर्मचारी की मृत्यु के बाद उनके आश्रितों को मिलता है लाभ, जानें EPFO के फायदे
कोविड-19 का असर, अप्रैल-जून तिमाही में घरों की बिक्री में 58 प्रतिशत की गिरावट: रिपोर्ट 6

कोविड-19 का असर, अप्रैल-जून तिमाही में घरों की बिक्री में 58 प्रतिशत की गिरावट: रिपोर्ट

नई दिल्ली: डेटा एनालिटिक कंपनी प्रॉपइक्विटी ने शनिवार को अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि कोविड-19 की दूसरी लहर की वजह से अप्रैल-जून, 2021 तिमाही में देश के सात बड़े शहरों में घरों की बिक्री में 58 प्रतिशत की कमी आई. आंकड़ों के मुताबिक रिहायशी संपत्तियों की बिक्री अप्रैल-जून, 2021 तिमाही में 45,208 इकाई थी जबकि उससे पहले की तिमाही (जनवरी-मार्च 2021) में यह 1,08,420 इकाई थी.

प्रॉपइक्विटी ने एक बयान में कहा, “अप्रैल और मई में भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर का बुरा असर पड़ा जिसके साथ बिक्री में 58 प्रतिशत की भारी गिरावट आयी.” बयान में कहा गया कि भारत के प्रमुख शहरों में कड़े लॉकडाउन ने घरों की बिक्री को प्रभावित किया क्योंकि आवासीय पंजीकरण निलंबित कर दिए गए थे और गृह ऋण का वितरण धीमा था.

इन शहरों में घटी घरों की बिक्री 
बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई महानगर क्षेत्र,…

View More कोविड-19 का असर, अप्रैल-जून तिमाही में घरों की बिक्री में 58 प्रतिशत की गिरावट: रिपोर्ट
लॉकडाउन के बाद जा रहे हैं घूमने तो जरूर लें Travel Insurance, जानें इसके फायदे 7

लॉकडाउन के बाद जा रहे हैं घूमने तो जरूर लें Travel Insurance, जानें इसके फायदे

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान लगाया गया लॉकडाउन अधिकाशं राज्यों ने हटा लिया. इसे देखते हुए बहुत से लोग कहीं छुट्टियां मानने का प्लान बनाने लगे हैं. अगर आप भी कहीं घूमने जाने के बारे में सोच रहे हैं तो जान लें कि कोरोना काल में ट्रेवलिंग के दौरान कई चीजों का ध्यान रखना जैसे कि सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर, कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट, मास्क आदि. लेकिन इन चीजों के लिए ट्रैवल इंश्योरेंस भी जरूरी है. अधिकांश लोग सफर पर निकलने से पहले ट्रेवल इंश्योरेंस के बारे में नहीं सोचते लेकिन यह बहुत काम आता है. आज हम आपको इसके फायदे बताने जा रहे हैं.

मेडिकल खर्च
विदेश में सफर के दौरान अगर व्यक्ति को किसी बीमारी या चोट का सामना करना पड़ जाए तो ऐसी स्थिति में ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी आपकी मदद करेगी. ट्रैवल इंश्योरेंस में हॉस्पिटल चार्ज, एंबुलेंस सर्विस और फिजिशियन सर्विस का चार्ज भी शामिल…

View More लॉकडाउन के बाद जा रहे हैं घूमने तो जरूर लें Travel Insurance, जानें इसके फायदे
Health insurance खरीदते समय इस बारे में जरूर करें पूछताछ, ताकि आगे चलकर न हों परेशानी 8

Health insurance खरीदते समय इस बारे में जरूर करें पूछताछ, ताकि आगे चलकर न हों परेशानी

कोरोना महामारी की वजह से लोग हेल्थ इंश्योरेंस को लेकर काफी गंभीर हो गए हैं. हर कोई यही चाहता है कि उसे और उसके परिवार को मुश्किल वक्त में सही इलाज और वित्तिय सुरक्षा मिल सके. 

हेल्थ इंश्योरेंस खरीदते वक्त लोग कई बातों पर ध्यान देते हैं. लेकिन ऐसा देखा गया है कि लोग अस्पतालों के नेटवर्क के बारे में अक्सर नहीं पूछते. हालांकि ये अनदेखी आगे जाकर काफी मुश्किल खड़ी कर सकती है. आप अगर हेल्थ इंश्योरेंस लेने की सोच रहे हैं तो ध्यान रखें कि जिस कंपनी से आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ले रहे हैं उसका अस्पतालों का नेटवर्क (Network Hospital) सही हो.

उसी हेल्थ इंश्योरेंस को चुनना चाहिए जिसका आपके क्षेत्र में अधिकतम अस्पताल नेटवर्क हो. दरअसल नेटवर्क अस्पताल अस्पतालों का एक ग्रप होता है जो आपको अपनी वर्तमान हेल्थ प्लान को भुनाने की परमिशन देता है.

अगर किसी इंश्योरेंस…

View More Health insurance खरीदते समय इस बारे में जरूर करें पूछताछ, ताकि आगे चलकर न हों परेशानी
भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में 8.4 से 10.1 फीसदी तक वृद्धि कर सकती है हासिल: NCAER 9

भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में 8.4 से 10.1 फीसदी तक वृद्धि कर सकती है हासिल: NCAER

नई दिल्ली: आर्थिक थिंक टैंक एनसीएईआर को उम्मीद है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मौजूदा वित्तीय वर्ष में 8.4-10.1 प्रतिशत की वृद्धि हासिल कर सकती है. पिछले वित्तीय वर्ष में अर्थव्यवस्था में 7.3 प्रतिशत का संकुचन हुआ था.

नेशनल काउंसिल ऑफ अप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) ने अर्थव्यवस्था की तिमाही समीक्षा जारी करते हुए आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए मजबूत वित्तीय समर्थन पर जोर दिया. एनसीएईआर ने एक बयान में कहा, ‘हमारा आकलन है कि वित्तीय वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद में 11.5 प्रतिशत की वृद्धि होगी जबकि पूरे वित्तीय वर्ष में 8.4-10.1 प्रतिशत की वृद्धि होगी.’

आधार प्रभाव की बड़ी भूमिका

इसमें कहा गया, ‘हालांकि, उच्च वृद्धि में आधार प्रभाव की बड़ी भूमिका है. वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही इससे पिछले साल 2020-21 की पहली तिमाही में आई बड़ी गिरावट के ऊपर हासिल होगी. 2021-22 के अंत पर, जीडीपी…

View More भारतीय अर्थव्यवस्था चालू वित्त वर्ष में 8.4 से 10.1 फीसदी तक वृद्धि कर सकती है हासिल: NCAER