NCB ने आर्यन खान पर लगाए 'इंटरनैशनल ड्रग्‍स तस्‍करी' के आरोप, वकील बोले- ये बेतुकी बात है 1

NCB ने आर्यन खान पर लगाए ‘इंटरनैशनल ड्रग्‍स तस्‍करी’ के आरोप, वकील बोले- ये बेतुकी बात है

NCB ने आर्यन खान पर लगाए 'इंटरनैशनल ड्रग्‍स तस्‍करी' के आरोप, वकील बोले- ये बेतुकी बात है 2

क्रूज ड्रग्स केस में फंसे शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) की जमानत याचिका पर बुधवार को सेशन्‍स कोर्ट में सुनवाई हुई।

इस दौरान नारकोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो (NCB) और आर्यन की ओर के वकील के बीच काफी जिरह हुई।

अब मामले की सुनवाई एक दिन बाद यानी गुरुवार को होगी।

NCB के लिए स्‍पेशल पब्‍ल‍िक प्रॉसिक्‍यूटर एएम च‍िमालकर और अद्वैत सेठना ने पैरवी की।

वहीं, आर्यन की तरफ से सीनियर एडवोकेट अमित देसाई और सतीश मानश‍िंदे अदालत में मौजूद थे।

इस दौरान अडिशनल सॉलिसिटर जनरल (ASG) अनिल सिंह की ओर से आर्यन पर ‘इंटरनैशनल ड्रग्‍स तस्‍करी’ के आरोप लगाए गए।

मादक पदार्थों की तस्‍करी गंभीर अपराध
सिंह ने कोर्ट में कहा, ‘पूरा देश मादक पदार्थों की तस्करी और सेवन से चिंतित है।

यह समाज में एक गंभीर अपराध है।

आए दिन पार्टियां दी जाती हैं, ड्रग्स का सेवन किया जाता है और इसमें कॉलेज के स्‍टूडेंट्स भी शामिल होते हैं।

यह न केवल आर्थिक मामलों को प्रभावित कर रहा है बल्कि अन्यथा भी, हम मादक पदार्थों की तस्करी में शामिल गिरोह से चिंतित हैं।

ASG ने पढ़ी वॉट्सऐप चैट्स
सिंह ने आगे कहा, ‘यह विश्वास करना मुश्किल है कि किसने आर्यन खान को इन्‍वाइट किया।

वह इन्‍वाइट कहां है? उनका तर्क यह है कि उनके साथ कोई व्‍यक्‍त‍ि ड्रग्‍स ले जा रहा था।

मैं यह दिखाने के लिए पंचनामा और वॉट्सऐप चैट भी पढ़ूंगा कि यह ऐसा मामला नहीं है जहां कोई कहता है, ‘मैं केवल एक इन्‍वाइट पर पहुंचा था और ज्‍यादा से ज्‍यादा मैं सिर्फ ड्रग्‍स का सेवन कर सकता था।

आर्यन की गिरफ्तारी में साजिश को नकारा
ASG ने आर्यन की गिरफ्तारी में हुई साजिश की बातों को नकारा।

उन्‍होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि जिस दिन हमने आर्यन को गिरफ्तार किया था, हम जानते थे कि यह साजिश थी।

हमने उसे तीसरे रिमांड में जोड़ा।

20 आरोपी हैं और उनमें से कुछ ड्रग्‍स पेडलर हैं।

खान और मर्चेंट के उनसे बात करने के सबूत हैं।

ऐसे चैट्स हैं जिनमें पैसों या थोक मात्रा का जिक्र है, फिर हार्ड ड्रग्स के बारे में एक विदेशी नागरिक के साथ बातचीत होती है।

पंचनामा के मुताबिक भी खान के पास से ड्रग्‍स नहीं मिली थी।

अरबाज के पास से मिली थी।

आर्यन से घर पर मिले थे मर्चेंट
सिंह ने कहा, ‘हमारा तर्क है कि ड्रग्‍स मर्चेंट के कब्जे में मिला है जो आर्यन खान से उनके घर पर मिले थे।

अपने खुद के बयान में उन्होंने आर्यन के साथ संबंध की बात को माना है।

मर्चेंट उसी कार में आर्यन के घर से गया और वे टर्मिनल पर थे जहां उन्हें पकड़ा गया था।

अरबाज के साथ यह ड्रग्‍स उनके सेवन के लिए था और दोनों को इसके बारे में पता था।

आर्यन भी जानते थे कि मर्चेंट के पास ड्रग्‍स था।

चैट में ड्रग्‍स की खरीद की बात
अनिल सिंह ने कोर्ट में कहा, ‘मेरी जानकारी के मुता‍बिक, अन्य आरोपियों के कब्जे में ड्रग्‍स पाए गए हैं।

वॉट्सऐप चैट इसलिए जरूरी हैं क्‍योंकि इनमें बड़ी मात्रा में ड्रग्‍स की खरीद की बात है।

विदेशी नागरिकों के साथ ड्रग्‍स की बात है जो कि भारी मात्रा में भी है।

मैं इन ड्रग्‍स के बारे में नहीं जानता लेकिन मेरे अधिकारियों ने कहा कि ये हार्ड ड्रग्‍स हैं।

मेरा तर्क है कि हमने अब तक 20 लोगों को गिरफ्तार किया है और उनमें से 4 ड्रग तस्कर हैं।

उनमें से एक के पास कमर्शल मात्रा भी मिली थी।

अचित और शिवराज ड्रग तस्कर थे।

चैट्स की ओर इसलिए किया गया इशारा
सिंह ने अपनी बात रखते हुए कहा, ‘मैं ड्रग्‍स की बरामदगी और चैट्स की बात की ओर इशारा इसलिए कर रहा हूं क्योंकि साजिश के मामले में यह जरूरी नहीं है कि सभी आरोपियों के पास कमर्शल मात्रा हो या मध्‍यम मात्रा मिले।

छोटी, कमर्शल या कोई मात्रा, अगर धारा 29 एनडीपीएस ऐक्ट लागू होता है तो साजिश है।

जब धारा 29 लागू होती है तो जिस व्यक्ति पर अपराध का आरोप लगाया जाता है, उसे साजिशकर्ता के समान अपराध के लिए दंडित किया जाएगा।

विदेशी नागरिक का पता लगाने की कोशिश
ASG अनिल सिंह ने कोर्ट में चैट दिखाते हुए कहा, ‘इन चैट्स में बड़ी मात्रा में ड्रग्‍स की बातचीत पर्सनल यूज के लिए नहीं हो सकती है।

यह कुछ और है।

हमने विदेशी नागरिक का पता लगाने के लिए विदेश मंत्रालय से बात की है।

आर्यन के वकील ने पढ़ा एनसीबी का जवाबइससे पहले आर्यन की ओर से वकील अमित देसाई ने कोर्ट में एनसीबी का जवाब पढ़ा।

उन्‍होंने कहा, ‘वे इन फैक्‍ट्स को सभी लोगों से संबंध में रख रहे हैं।

अब तक 20 लोग गिरफ्तार हुए हैं और वे इंटरनैशनल ड्रग ट्रैफिकिंग का आरोप लगा रहे हैं।

उनके पास एक विदेशी नागरिक भी गिरफ्तार है।

जवाब में उन्होंने कई आरोपियों का जिक्र किया है लेकिन आरोप तो बहुत हैं।

वे यहां किसका जिक्र कर रहे हैं? यह एक बहुत अच्छी तरह से तैयार किया गया उत्तर है।

देसाई ने कहा- एनसीबी को अवैध तस्‍करी के बारे में मालूम होना चाहिए
देसाई ने कहा, ‘आर्यन और अरबाज के बीच दोस्ती से कोई इनकार नहीं कर रहा है।

दोनों साथ में बड़े हुए हैं।

वे जवाब में कह रहे हैं कि ‘उनका कनेक्‍शन है और क्‍लोज नेक्‍सस है’ लेकिन इसमें ‘वे’ कौन हैं? खान और मर्चेंट।

हम इस जवाब में हर समय ‘अवैध तस्करी’ शब्‍द देख रहे हैं।

उन्होंने यह सब आर्यन खान पर डाल दिया।

मुझे विश्वास है कि वे जानते हैं कि यह एक गंभीर अपराध है।

एनडीपीएस अधिनियम में अवैध तस्करी क्या है, यह कानून का एक शब्द है, यह कोई आकस्मिक शब्द नहीं है।

एनडीपीएस ऐक्ट को अंदर से जानने वाली एनसीबी को पता होना चाहिए कि अवैध तस्करी क्या है।

इस लड़के पर अवैध तस्करी का आरोप लगाया गया है।

सुप्रीम कोर्ट के संदर्भ में यह ‘स्वाभाविक रूप से बेतुका’ है।

आर्यन के पास से नहीं हुई कोई जब्‍ती
अमित देसाई ने आगे कहा, ‘आर्यन के पास से कोई जब्‍ती नहीं हुई है।

वे कह रहे हैं कि धमेचा और गोमित आदि से वसूली हुई है।

इस लड़के से कुछ भी नहीं, वह क्रूज पर भी नहीं था और वे कहते हैं कि यह अवैध तस्करी में शामिल है।

वे ड्रग्‍स की खरीद-बिक्री ही नहीं, उसे बनाए जाने की भी बात कर रहे हैं जबकि आर्यन के खिलाफ कुछ भी नहीं है।

यह एक जिम्मेदार एजेंसी है, वे अवैध तस्करी कह रहे हैं और इससे निपटने वाली एकमात्र प्रावधान धारा 27ए है।

2 अक्टूबर को 4:50 से 3 अक्टूबर के 2:00 बजे के बीच आर्यन की तलाशी ली जा रही थी? उन्होंने उनका मोबाइल फोन ले लिया लेकिन उन्होंने 27ए नहीं लगाया क्योंकि वे जानते हैं कि आर्यन अवैध तस्करी में शामिल नहीं है।

जिन अन्य को गिरफ्तार किया गया है, उनमें से केवल दो पर 27ए (चोकर और जसवाल) के तहत मामला दर्ज किया गया।

जवाब में जो भी मीलॉर्ड्स ‘अवैध’ के लिए पढ़ेंगे, कृपया ध्यान रखें कि खान को 27ए के लिए गिरफ्तार नहीं किया गया है।

उन्होंने आर्यन से दोबारा पूछताछ नहीं की, पूछताछ में उन्हें केवल अचित के साथ एक चीज मिली जिनके पास 2.6 ग्राम चरस था जो कि अवैध नहीं है।