April 21, 2021
बिजनेस समाचार

Fact Check: क्या वाकई दिवालिया हो गई है OYO? जानें क्या है हकीकत

Fact Check: क्या वाकई दिवालिया हो गई है OYO? जानें क्या है हकीकत 1

Fact Check: क्या वाकई दिवालिया हो गई है OYO? जानें क्या है हकीकत 2

नई दिल्ली
ऐसी खबरें चल रही हैं कि हॉस्पिटैलिटी क्षेत्र की कंपनी ओयो () दिवालिया हो गई है। लेकिन यह वास्तविकता नहीं है। दरअसल नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) की अहमदाबाद की एक बेंच ने ओयो ग्रुप की एक सब्सिडियरी (OHHPL) के खिलाफ कॉरपोरेट इन्सॉल्वेंसी प्रोसिडिंग को मंजूरी दी है। यह मंजूरी एक ऑपरेशनल क्रिएटर द्वारा 16 लाख रुपये के बकाए को लेकर ओयो होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ फाइल की गई ऐप्लीकेशन पर बेस्ड है। NCLT के आदेश में कहा गया है कि ओयो होटल्स एंड होम्स के क्रिएटर्स को इंटरिम रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल को 15 अप्रैल से पहले अपने क्लेम सौंपने को कहा गया है। इंटरिम रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल केयूर जगदीशभाई शाह हैं। इसी आदेश की एक पीडीएफ सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो रही है और ऐसी अफवाहें पैदा हो गईं कि ओयो ग्रुप ने बैंकरप्सी के लिए आवेदन दिया है। ओयो के सीईओ ने ट्वीट कर बताई सच्चाई
NCLT के इस आदेश को ओयो ने NCLAT में चुनौती दी है। इस बारे में के फाउंडर व सीईओ ने जानकारी दी है और साथ ही ओयो ग्रुप के दिवालिया होने की खबरों पर स्पष्टीकरण भी दिया है। ने ट्वीट कर कहा है कि ऐसे मैसेज सर्कुलेट हो रहे हैं कि ओयो ने दिवालिया होने के लिए आवेदन किया है। लेकिन ये खबरें गलत हैं। एक वादी ने ओयो की सब्सिडियरी से 16 लाख रुपये के बकाए की मांग करते हुए NCLT में याचिका डाली थी। हालांकि ओयो पहले ही यह भुगतान कर चुकी है। ओयो ने NCLT के आदेश को NCLAT में चुनौती दी है। ओयो महामारी के प्रभाव से धीरे-धीरे उबर रही है और हमारे सबसे बड़े बाजारों में कंपनी मुनाफे के साथ परिचालन कर रही है।

Related posts